उद्योगपति

Articles

किसी भी देश या समाज की अर्थव्यवस्था का मापक उसका व्यापार और उद्योग होता है|प्राचीन काल से ही मनुष्य विभिन प्रकार के उद्योग और व्यापार में लिप्त है और भारत भी इससे कभी अछूता नहीं रहा है| सिन्धु घाटी सभ्यता के समय से ही भारत का व्यापारिक सम्बन्ध मध्य-पूर्व के देशों से था| भारतीय मसाले और सूती वस्त्रों की विदेशों में भारी मांग थी| समय के साथ व्यापार और उद्योग का स्वरुप बदला और व्यापर का ढंग भी| भारतीय अर्थव्यवस्था का लगभग 100 वर्षों का इतिहास देखें तो आप तमाम ऐसे नाम पाएंगे जिन्होंने अपने अथक परिश्रम, कुशाग्रता और दूर-दृष्टि से अपने उद्योग और समूह को ऐसी उंचाईयों तक पहुँचाया जिससे उनका नाम हमेशा के लिए इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया| भारतीय अर्थव्यवस्था को मजबूती देने में वर्षों से यहां के उद्योगपतियों ने अहम भूमिका निभाई है। जानते हैं देश के प्रमुख उद्योगपतियों के जीवन और उपलब्धियों के बारे में।

धीरूभाई अम्बानी

धीरूभाई अम्बानी

जन्म: 28 दिसम्बर 1932, चोरवाड़, जूनागढ़ एस्टेट, ब्रिटिश इंडिया मृत्यु: 6 जुलाई 2002 कार्य/व्यवसाय: उद्योगपति, रिलायंस इंडस्ट्रीज के संस्थापक धीरजलाल...